sahity kriti

man ke udgaaron ki abhivyakti

89 Posts

3158 comments

alkargupta1


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

टूटे कलियों के अरमान

Posted On: 5 Dec, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others social issues कविता में

10 Comments

सांकल पिया द्वार की

Posted On: 1 Aug, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others Others कविता में

11 Comments

मानुषिकता के अरण्य में (कांटेस्ट)

Posted On: 30 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Others कविता में

17 Comments

क्या अनमोल उपहार यही (कांटेस्ट)

Posted On: 27 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others Others कविता में

22 Comments

जीने की सही राह (लघु कथा)….कांटेस्ट

Posted On: 27 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Others social issues में

7 Comments

तू महान बन ! महान बन !!

Posted On: 20 Oct, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

10 Comments

स्नेह दीप

Posted On: 4 Nov, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others न्यूज़ बर्थ लोकल टिकेट में

22 Comments

उसका…… मृदु अहसास

Posted On: 20 Nov, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others न्यूज़ बर्थ लोकल टिकेट में

42 Comments

“प्यार की आरज़ू — valentine contest ”

Posted On: 7 Feb, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

51 Comments

“प्यार का घरौंदा और ये अस्तित्व-Valentine contest ”

Posted On: 12 Feb, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

26 Comments

“प्यार की डोर– Valentine contest”

Posted On: 13 Feb, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

26 Comments

भाग्य की विडम्बना !

Posted On: 18 Feb, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others न्यूज़ बर्थ में

30 Comments

सूखे पत्ते

Posted On: 25 Feb, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others न्यूज़ बर्थ लोकल टिकेट में

52 Comments

इस पावन धरणी को नमन !

Posted On: 24 Mar, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others न्यूज़ बर्थ लोकल टिकेट में

37 Comments

सामाजिक मान-प्रतिष्ठा व श्रद्धा का आधार स्तम्भ…..वाणी

Posted On: 26 Apr, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

29 Comments

कौन हो तुम….?

Posted On: 23 May, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others लोकल टिकेट में

45 Comments

ज़िन्दगी एक झरना

Posted On: 12 Apr, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others लोकल टिकेट में

24 Comments

कराहती जहाँ असंख्य अनमोल जिंदगियां……..!!!

Posted On: 21 Jun, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others लोकल टिकेट में

18 Comments

दासता की परिधि

Posted On: 26 Sep, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others लोकल टिकेट में

44 Comments

क्या अनमोल उपहार यही ???

Posted On: 23 Nov, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others लोकल टिकेट में

50 Comments

सम्मोहन सूत्र !

Posted On: 30 Aug, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

28 Comments

अब मैं तृप्त हो गया……..!

Posted On: 18 Oct, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.40 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others मेट्रो लाइफ लोकल टिकेट में

62 Comments

जल उठें असंख्य दीये अंतस के

Posted On: 25 Oct, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others न्यूज़ बर्थ लोकल टिकेट में

46 Comments

ये रिश्ते…..!

Posted On: 11 Jan, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others मेट्रो लाइफ लोकल टिकेट में

69 Comments

निशब्द हुई

Posted On: 6 Dec, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

42 Comments

शीत से ठिठुरे तन को मिली सौगात…….वसंत के आगमन पर

Posted On: 9 Feb, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 3.83 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

62 Comments

महाशून्य के उस पार….

Posted On: 13 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others लोकल टिकेट में

61 Comments

विधाता की अनुपम कृति

Posted On: 11 May, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others लोकल टिकेट में

62 Comments

स्मृति के फलक पर

Posted On: 5 Jul, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others न्यूज़ बर्थ लोकल टिकेट में

78 Comments

जो पीड़ा निहारा करता……

Posted On: 17 Oct, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.40 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others न्यूज़ बर्थ लोकल टिकेट में

60 Comments

सद्भावनाओं के दीये

Posted On: 8 Nov, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others लोकल टिकेट में

43 Comments

पत्थर और आदमियत

Posted On: 12 Dec, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

57 Comments

वह वृद्ध अजनबी !!!

Posted On: 10 Apr, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others न्यूज़ बर्थ मेट्रो लाइफ लोकल टिकेट में

44 Comments

प्रेम शैवलिनी में उफनते सपने

Posted On: 13 Feb, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

73 Comments

गुम हो गयीं क़ानून की लाशें

Posted On: 24 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others Others social issues कविता में

15 Comments

महा शून्य के उस पार (contest)

Posted On: 14 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Contest Others कविता में

2 Comments

भ्रष्टाचार के तमस में एक दीप (contest)

Posted On: 14 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Others कविता में

14 Comments

नव सृजन (contest)

Posted On: 14 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Others कविता में

16 Comments

लघु कथा – ‘बंजर भूमि’ (contest)

Posted On: 16 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

8 Comments

प्रेम शैवलिनी में उफनते सपने (CONTEST)

Posted On: 17 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Others कविता में

4 Comments

ये रिश्ते (कांटेस्ट)

Posted On: 18 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Contest Others कविता में

5 Comments

मानव प्रकृति और फाल्स सीलिंग (कांटेस्ट)

Posted On: 18 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Others कविता में

8 Comments

सिंह नाद का गर्जन (कांटेस्ट)

Posted On: 24 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Others कविता में

4 Comments

जलता नहीं अंतर का रावण

Posted On: 22 Oct, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others social issues कविता में

0 Comment

प्यार का झरना ….रक्षाबंधन

Posted On: 7 Aug, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others कविता में

4 Comments

स्मृति मंजूषा में सहेजी धरोहर ….माँ

Posted On: 11 May, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others Others कविता में

14 Comments

Page 1 of 912345»...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा:

MERI कविता इसी शीर्षक पर नारी तू नारायणी क्यूँ इस जहाँ से डर रही तू ही जीवनदायिनी क्यूँ मरने से पहले मर रही आज सियासत मेँ सुरसा ताडका ने ही वास किया खूनी बलात्कारी को हमेशा उन्होने ही माफ किया हर बार यूँ ही कत्ल होगी यूँ ही सहती जायेगी दुर्गा सती काली चंडी को शर्म तुझ पर आयेगी जब तेरा ही जिस्म तेरे कत्ल का कारण बने प्रचँड रुप धर आक्रमण करना तेरा ये ही प्रण बने तुझ से जीत जाने का यम ने भी न साहस किया शिव भी चरण के नीचे थे जब तूने अट्टाहस किया उठती थी तुझ पर निगाहेँ आज वो झुकने लगे तोड दे उस हाथ को जो तेरी ओर बढने लगे न किसी पर कर भरोसा खुद ही चंडी रूप धर हाथ जो जिस्म पर उठे काट दे भूमी पे धर

के द्वारा: deepakbijnory deepakbijnory

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

मनीषा जी , सबसे पहले तो मैं आपको हार्दिक धन्यवाद देना चाहूंगी विषय सम्बंधित चर्चा को आगे बढ़ाने के लिए क्योंकि यह विषय ही ऐसा है जिस पर बहुत अच्छी बातें हो सकती हैं |जानकर बहुत ही प्रसन्नता हुई किआप शिक्षा के क्षेत्र से जुडी हुई हैं और मैं भी इसी क्षेत्र से मैंने करीब तीस वर्ष इस क्षेत्र को अपनी सेवाएं दी अभी जब दो वर्ष पूर्व मेरे पति रिटायर हुए उससे छ माह पूर्व मैंने भी टीचिंग जॉब से रिटायरमेंट ले लिया और चूंकि थोडा बहुत लिखने में रूचि है तो एक दो हिंदी की स्तरीय संस्थाओं से जुडी हुई हूँ और जागरण मंच पर कभी कभी थोडा बहुत लिख देती हूँ ...... आजकल अधिकांशतः घरों में इसी तरह की समस्याएं हैं बच्चों के बारे में मनीषाजी यह सही है आज के मशीनी युग में हर महिला हर पुरुष अधिकतम व्यस्त है लेकिन यदि हमें अपने बच्चों की ज़िन्दगी को सजाना , सवांरना है तो हमें कुछ त्याग तो करना ही पड़ेगा और उनके लिए हमारे न चाहते हुए भी थोडा समय उनके साथ बिताना पड़ेगा उनकी बातों को सुनना पड़ेगा,उनके प्रश्नों का उत्तर देकर उन्हें संतुष्ट भी करना पड़ेगा इस कार्य में जितनी अहम् भूमिका माता की हैः उतनी ही पिता की भी है और इन सबके लिए बहुत धैर्य और ठन्डे दिमाग से कार्य करना होगा परिवार के सभी सदस्यों में सकारात्मक सोच ,स्वस्थ्य मानसिकता के साथ परस्पर सहयोग व सामंजस्य की अति आवश्यकता होती है फिर मुझे नहीं लगता कि बच्चों में अपने माता-पिता के प्रति कोई रोष का कारण हो .......मैं भी जॉब में थी और मेरे पति के ऑफिस जाने का समय तो निश्चित था लेकिन उनके आने का समय कोई भी निश्चित नहीं था फिर भी अपने बच्चों के साथ हम लोगों को कभी भी ऐसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ा .........अभी भी अगर कोई समस्या या शंका हो तो कृपया अवगत कराएँ आप मेल द्वारा भी संपर्क कर सकतीं हैं आपका स्वागत है .... साभार

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

अलका जी आप मुझसे कहीं ज्यादा अनुभवी और उम्र में बड़ी हैं । हम पहली बार एक साथ ब्लॉग पर मिल रहे हैं और मुझे आपसे बहुत कुछ सीखने के लिए मिल रहा है और मेरी आपसे सबसे ज्यादा बात हो रही है । अलका जी मैं आजकल एक हाउस वाइफ हूँ । पहले मैं टीचिंग जॉब में थी । आजकल मैं घर पर ही रहकर अपनी रुचियों को आगे बढ़ाने में लगी हुई हूँ और साथ ही काउंसलिंग का भी काम कर रही हूँ । अलका जी आजकल मेरे पास ज्यादातर ऐसे ही पेरेंट्स की समस्याएं आ रही हैं कि '' हमारे बच्चे सुनते ही नहीं हैं रात को एक साथ खाने के लिए बुलाओ तो किसी न किसी बहाने से हमसे दूर भागते हैं आदि ''। आपने समय की गुणवत्ता के बारे में बात की है लेकिन मैं इसके बारे में यही कहूँगी कि आजकल आज की नारी ने अपने आपको मशीन बनाकर रख लिया है । थोड़ा वक्त भी समय भी अपने बच्चों को नहीं दे पाती क्योकि वह थक कर बुरी तरह टूट चुकी होती है जब देना चाहती है तो बच्चे उससे रोष पनपने की वजह से दूर भागते हैं । बैंक या किसी कम्पनी में काम करने वाली नारी के बारे में क्या कहूँ ? मैं तो जब स्कूल में पढ़ाती थी और जब मैं घर लौटती थी और जब मेरे बच्चे उत्साहित होकर मुझे कोई बात बताते थे तो मैं इतनी थक चुकी होती थी कि मैं चाहकर भी उनकी बात नहीं सुन पाती थी जब से मैंने जॉब छोड़ा है तब से मुझमें और मेरे बच्चों में कहीं ज्यादा अच्छी अंडरस्टेनडिंग है । मेरी माँ भी जॉब करती थी ऐसे बच्चों की मानसिक परेशानी मुझसे ज्यादा भला कोई और कौन समझेगा ?

के द्वारा: Manisha Singh Raghav Manisha Singh Raghav

मनीषा जी , निसंदेह अपनी संतान की ज़िन्दगी को सजाने, संवारने और बिगड़ने देने के लिए माता-पिता की अहम् भूमिका होती है इसमें कोई भी दो राय नहीं पर जब वे अपनी इस भूमिका से कहीं भी चूक जाते हैं या फिर अपने बच्चों के साथ बिताये जाने वाले समय की क्वालिटी पर तनिक भी ध्यान नहीं देते हैं तभी यह स्थिति स्वतः ही उत्पन्न हो जाएगी उसके लिए यह आवश्यक नहीं है कि हम अपने बच्चों के साथ कितनी देर रहते हैं बल्कि यह आवश्यक है कि किस तरह कैसी गतिविधियों द्वारा बच्चों को समय दे रहे हैं यहाँ समयावधि से समय की गुणवत्ता अधिक मायने रखती है अगर समय की गुणवत्ता को ध्यान में रखा जाये बच्चों के साथ मिलकर उनकी गतिविधियों में शामिल होकर उन्हें थोडा भी समय दिया जाये तो मुझे नहीं लगता किबच्चों में रोष का कोई कारण हो और वे अपने माता-पिता से भावनात्मक रूप से जुड़े भी रहेंगे और और उन्हें उनकी कंपनी भी मिल जाएगी ...... साभार

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा: Manisha Singh Raghav Manisha Singh Raghav

मनीषा जी , बिलकुल सही है यह किहमारे समय में मदर्स डे .फादर्स डे जैसे शब्द नहीं बने थे लेकिन फिर भी हम इनके प्यार और इनकी कीमत समझते थे कयोंकि हमारे बुजुर्गों ने हममें अपनी प्राचीनतम संस्कृति और परम्पराएँ सुदृढ़ रूप से पोषित कीहुई थी जिनका निर्वाह हम आज तक करते आ रहे हैं |आपके मन में उठने वाले सवाल के बारे में यही कहना चाहूंगी कि आज की दौड़ती भागती ज़िन्दगी में , पैसे की अंधी दौड़ में और भौतिक चकाचौंध में हमारे मानवीय मूल्यों का कही न कहीं ह्रास हो रहा है जिसमें नयी पीढ़ी के लिए इन अहम् रिश्तों का भी कोई मूल्य नहीं रहा तो इन दिनों के माध्यम से यह अहसास दिलाया जाता है कि जीवन में इनकी एक महत्त्वपूर्ण भूमिका है जिन्होने इस धरती पर इतना सुन्दर जीवन दिया ....... .` इन्हीं युवाओं के लिए मदर्स दे जैसे डेज बने हैं और दिन नहीं तो कम से कम मदर्स डे या पेरंट्स डे वाले दिन ही इन सम्बन्धों पर प्यार उमड़ आये । क्या कहती हैं आप इसके बारे में ?' अंतिम पंक्तियों में आपने जो सच कहा है उसके साथ मेरी भी पूर्ण सहमति है ऐसे युवाओं के लिए यही ठीक है कि कम से कम इसी दिन ये इनका महत्त्व समझे मान सम्मान दें ..... मेरी दृष्टि में तो माँ के लिए कोई एक दिन नहीं उसके लिए तो हर दिन ही मदर्स डे और पिता के लिए हर दिन ही फादर्स डे है ........ आपने अपने विचारों से अवगत कराया बहुत अच्छा लगा ...बहुमूल्य प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक आभार

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

अलका जी , हमारे वक्त में'' ये मदर्स दे '' , फादर्स दे , पेरेंट्स दे जैसे शब्द नहीं बने थे फिर भी हम इनके प्यार और इनकी सम्बन्धों की कीमत को अच्छी तरह से समझते थे । एक सवाल मेरे मन में बार बार उठता है कि जब ये डेज आते हैं तो हमें अपने भावों को या इन सम्बन्धों की कीमत बताने की जरूरत क्यों पडती है ? क्या नई पीढ़ी को इनकी कीमत बताने के लिए ? एक सच यह भी है जब कोई चीज हमारे पास नहीं होती तो उस चीज के लिए हम तरसते हैं जब होती है तब उसकी कदर नहीं करते । आजकल के युवा बातबेबात में माँ का अपमान करने में भी नहीं चुकते या फिर कुछ तो उन्हें अपने स्टेंडर्ड का भी नहीं मानते शायद इन्हीं युवाओं के लिए मदर्स दे जैसे डेज बने हैं और दिन नहीं तो कम से कम मदर्स डे या पेरंट्स डे वाले दिन ही इन सम्बन्धों पर प्यार उमड़ आये । क्या कहती हैं आप इसके बारे में ?

के द्वारा: Manisha Singh Raghav Manisha Singh Raghav

.मैं बहुत ईमानदार हूँ…..कहा था न तुम्हारे पास आयूंगा अपने जीवन का अंतिम समय तुम्हारे पास बिताना चाहता हूँ…मुझ भिखारी को थोड़ी सी जगह रहने को दे दो |” सुनकर रमन भाव विह्बल हो गया और अपने पितृवत् व्यक्ति (भिखारी )को गले लगा लिया दोनों के नेत्रों से प्रेमाश्रुओं की अविरल धारा फूट पड़ी……….जैसे कि वर्षों से बिछुड़े हुए पिता-पुत्र के संगम में गंगा यमुना की बहती हुई रसधार हो…….!!!!!! आदरणीया अलका जी बहुत ही सुन्दर ..दिल को छू लेने वाला आलेख ..प्रेम और रिश्ते बहुत काम आते हैं समय का चक्र चलते रहता है कौन अपना कौन बेगाना यहाँ कोई किसी का नहीं कब कौन काम आ जाए कोई नहीं जानता प्यारा आलेख ...बधाई आप को प्रेम बना रहे हम मन से सब से जुड़े रहें जो कुछ कर सके करते रहें और चाहिए ही क्या ...जय श्री राधे भ्रमर ५

के द्वारा: surendra shukla bhramar5 surendra shukla bhramar5

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा: Lahar Lahar

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1

के द्वारा: alkargupta1 alkargupta1